क्या है SLED, realme ने कैसे इस टेक्नोलॉजी की मदद से TV इंडस्ट्रीज को दिया एक नया रूप


realme ने स्मार्टफोन के बाद अब टीवी सेगमेंट में भी मजबूत जगह बना ली है। कंपनी ने अपने टीवी सेगमेंट में SLED तकनीक का उपयोग किया है जो कि टीवी को एक्सपीरियंस को बेहतर और शानदार बनाती है।

स्मार्टफोन ने इंसान के जीवन को पूरी तरह से बदल दिया है। काम करना हो या फिर खुद को एंटरटेन करना हो, ज्ञान लेना हो या फिर कुछ खरीदारी करनी हो स्मार्टफोन ने हर चीज को आसान बना दिया है। आज बाजार में लेटेस्ट टेक्नोलॉजी के साथ तरह-तरह के स्मार्टफोन्स उपलब्ध हैं। लेकिन ऐसा नहीं है कि बीते एक दशक में केवल स्मार्टफोन ने ही टेक्नोलॉजी के मामले में विस्तार देखा है और इंडस्ट्रीज भी टेक्नोलॉजी के मामले में एडवांस हो चुकी हैं। TV इंडस्ट्रीज भी उनमें से एक है। शुरुआत में हमने ब्लैक एंड व्हाइट और उसके बाद रंगीन TV का दौर देखा। धीरे-धीरे TV का डिजाइन और उसका डिस्प्ले बदलता गया। पिछले एक दशक में अलग-अलग तरह की टेक्नोलॉजी ने लोगों के TV व्यू एक्सपीरियंस को ही पूरी तरह से बदल दिया है।

Light Emitting Diodes को समझने के लिए सबसे पहले आपको Liquid Crystal Display को समझना होना। LCD TV फिलहाल बाजार में आपको कम ही देखने को मिलेगा। यह एक प्रकार का फ्लैट पैनल डिस्प्ले है, जो इमेज को प्रोड्यूस करने के लिए लिक्विड क्रिस्टल का उपयोग करता है। यह बैक डिस्प्ले लाइटिंग के लिए CCFL का उपयोग करता है। वहीं बात करें LED की तो यह LCD से एडवांस है। इसमें बैक डिस्प्ले लाइटिंग के लिए LED पैनल का उपयोग किया जाता है। यह LCD से बहुत पतला और कम बिजली की खपत करता है।  Quantum dot LED यह टेक्नोलॉजी LED से थोड़ा एडवांस है।  इसमें स्क्रीन और एमिटिंग डायोड के बीच में क्वांटम डॉट कलर पैनल या फिल्टर दिया जाता है, जिससे TV पर अच्छे कलर देखने को मिलते हैं।

यह टेक्नोलॉजी बैकलाइट को बेहतर बनाने के लिए फॉस्फोरसेंट क्रिस्टल का उपयोग करती है। Organic Light Emitting Diodes यह बहुत ही महंगी और एडवांस टेक्नोलॉजी है। इस टेक्नोलॉजी को आप आजकल स्मार्टफोन में भी देखते हैं। इसमें हर एक पिक्सल की अपनी लाइटिंग होती है। मतलब जो कलर आपको दिखाना है, वही कलर आपको दिखेगा, जिसकी वजह से व्यू एक्सपीरियंस काफी अच्छा हो जाता है। साथ ही, TV काफी  पतला हो जाता है और पॉवर की भी खपत कम हो जाती है। टेक्नोलॉजी से जुड़ी कोई भी कंपनी हो उसका एक ही मकसद होता है, यूजर्स के एक्सपीरियंस को शानदार बनाया जाए।

इस मामले में realme काफी आगे निकल चुका है। इसने SLED को विकसित करके TV यूजर्स को लाजवाब और बेमिसाल व्यू एक्सपीरियंस दिया है। SLED डिस्प्ले टेक्नॉलॉजी realme  और SPD टेक्नोलॉजी के मुख्य वैज्ञानिक जॉन रूयमांस द्वारा सह-विकसित की गई है। TV ब्लैकलाइट के लिए SPD तकनीक अपनाने से SLED TV में हमें लो ब्लू लाइट के साथ अल्ट्रा-वाइड कलर गमुट मिलेगा और आंखों की देखभाल भी होगी।

Related Posts