Google के Incognito Mode का इस्तेमाल कर रहें हैं तो, सावधान रहें, Google पर 36,000 करोड़ रुपये का मुकदमा हुआ है


Google के खिलाफ अमेरिकी अदालत में एक मुकदमा दायर किया गया है जिसमें आरोप लगाया गया है कि Google, Incognito मोड के उपयोग करने वाले उपयोगकर्ताओं के स्थान और डेटा को चोरी करने का काम करता है।

सर्च इंजन प्लेटफॉर्म Google का उपयोग आमतौर पर सभी उपयोगकर्ताओं द्वारा किया जाता है। इनमें से कुछ लोग Google के निजी खोज टैब Incognito Mode का भी उपयोग करते हैं। लेकिन उपयोगकर्ताओं की सुरक्षा के लिहाज से इनकॉगनिटो मोड खतरनाक साबित हो सकता है। उसी दावे को लेकर अमेरिकी अदालत में Google के खिलाफ मुकदमा दायर किया गया।

जिसमें आरोप लगाया गया कि Google Incognito Mode का उपयोग करने वाले उपयोगकर्ताओं के स्थान और डेटा को चुराने का काम करता है। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में कैलिफोर्निया के जिला न्यायाधीश लुसी कोह के हवाले से कहा गया है कि Google ने उपयोगकर्ताओं को Incognito Mode के माध्यम से निजी डेटा एकत्र करने के बारे में सूचित नहीं किया था।

बता दें कि Google इंक का इंकॉग्निटो मोड उपयोगकर्ताओं को एक विकल्प प्रदान करता है, जहां उपयोगकर्ता ब्राउज़र या किसी भी डिवाइस पर किसी भी गतिविधि को सहेजे बिना इंटरनेट ब्राउज़ कर सकते हैं। Google ने अपने स्पष्टीकरण में कहा कि जब भी नया Incognito Mode खोला जाता है, तो कंपनी स्पष्ट रूप से बताती है कि इस सत्र के दौरान आपकी ब्राउज़िंग गतिविधि के बारे में जानकारी एकत्र की जा सकती है

 पिछले साल जून में, अमेरिका में एक क्रोम उपयोगकर्ता ने शिकायत दर्ज की थी कि Google का एक बड़ा डेटा ट्रैकिंग व्यवसाय था। उस समय यह दावा किया गया था कि यदि उपयोगकर्ता अपनी निजी जानकारी को सुरक्षित करने के लिए कदम उठाता है, तो भी कंपनी उपयोगकर्ता का डेटा एकत्र करती रहती है। Google ने पहले ही क्रोम ब्राउज़र से अपने प्लेटफ़ॉर्म से थर्ड पार्टी कुकीज़ को हटाने की घोषणा कर दी है। Apple सफारी और मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स से थर्ड पार्टी को भी हटा दिया गया है।

Related Posts