टाटा मोटर्स ने पांच लीटर इंजन का निर्माण किया है जिस कारण अब कम प्रदूषण के साथ-साथ, अधिक बिजली, और ईंधन की खपत भी कम होगी।


बीएस-6 वाहनों में यहाँ इंजन लगाया जायेगा, जिस से चढ़ाई वाले स्थानों पर वाहन आसानी से चढ़ सकेंगे। 

टाटा मोटर्स के जमशेदपुर प्लांट ने पांच लीटर का इंजन बनाया है। पांच लीटर इंजन अन्य इंजनों की तुलना में तीन गुना अधिक शक्तिशाली है। इसमें तेल की मात्रा कम होने से प्रदूषण भी कम होगा। चढ़ाई वाली जगहों पर वाहन आसानी से चढ़ जाएंगे। कंपनी के इंजन डिवीजन द्वारा पहले पांच लीटर इंजन के बीएस-छह मॉडल के बाद कंपनी परिसर में पूजा हुई।

टाटा मोटर्स के प्लांट हेड विशाल बादशाह, डिवीजन हेड वीना मित्रा, राजीव बंसल, सुभाषीश दास, यूनियन के अध्यक्ष गुरमीत सिंह तोता, जनरल मिनिस्टर आरके सिंह और अन्य ने नारियल फोड़कर इसका उद्घाटन किया। प्लांट हेड विशाल बादशाह ने कहा कि पांच लीटर मॉडल इंजन के निर्माण के कारण बीएस सिक्स इंजन को यहां इकट्ठा किया जाएगा।

इंजन को यहां से प्लांट वन की असेंबली लाइन में भेजा गया, जहां इसे चेसिस में फिट किया जाएगा। बीएस तीन और चार मॉडल कंपनी में इंजन हुआ करते थे, लेकिन मार्च से बीएस-सिक्स इंजन बनाया जाने लगा है। अब तक 500 से अधिक इंजन बनाए जा चुके हैं। पांच लीटर इंजन का ट्रायल चल रहा था। इसे सरकार ने मंजूरी दे दी है।

कंपनी का लक्ष्य एक दिन में 200 से अधिक बीएस सिक्स मॉडल इंजन बनाने का है। इसके लिए टाटा मोटर्स के इंजन डिवीजन को अपग्रेड किया गया है। इसका विस्तार करते हुए, एक ही लाइन पर बीएस-सिक्स इंजन बनाने पर काम चल रहा है। इसके लिए, पहली नई नींव, स्टैंड के साथ लाइन का काम पूरा किया गया था। पांच-छह मॉडल बीएस सिक्स इंजन यहां बनाए जाएंगे।

Related Posts