भारत ने 400 किमी तक आवाज से तीन गुना रफ्तार से वार करने वाली मिसाइल के लैंड अटैक वर्जन का सफलतापूर्वक टेस्ट किया।


सेना ने यहाँ टेस्ट मंगलवार को अंडमान-निकोबार द्वीप से ब्रह्मोस के लैंड अटैक वर्जन का  टेस्ट किया।

सेना ने देश में बनी सुपरसोनिक मिसाइल ब्रह्मोस के लैंड अटैक वर्जन का मंगलवार को प्रबंधित परीक्षण किया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि ब्रह्मोस का यह परीक्षण तयशुदा ट्रायल्स की सीरीज का हिस्सा है। आधिकारिक सूत्रों ने कहा- अंडमान-निकोबार में सुबह करीब 10 बजे ब्रह्मोस मिस का टेस्ट किया गया। टेस्ट पूरी तरह से कामयाब रहा। आने वाले दिनों में एयरफोर्स और नेवी भी ब्रह्मोस के हवा और समुद्र से फायर किए जाने वाले वर्जन का परीक्षण करेंगी।

ब्रह्मोस मिस सुपरसोनिक स्पीड से टारगेट पर सटीक हमला करने के लिए होना चाहिए। ब्रह्मोस के लैंड अटैक वर्जन की रेंज 290 किलोमीटर से बढ़कर 400 किलोमीटर कर दी गई है। लेकिन, इसकी स्पीड 2.8 मैक ही रखी गई है। यह आवाज की अप से तीन गुना तेज है। पिछले ढाई महीने में भारत ने एंटी रेडिएशन मिस रुद्र -1 सहित कई मिसाइलों के टेस्ट किए हैं। रुद्र -1 को 2022 में सेना में शामिल करने की तैयारी है। भारत ने एलएसी के अलावा, चीन से सटे अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के कई इलाकों में ब्रह्मोस की तैनाती की।

वायुसेना ने पिछले दिनों ब्रह्मोस मिस के हवा से फायर किए जाने वाले वर्जन का टेस्ट किया था। बंगाल की खाड़ी में सुखोई फाइटर जेट से किया गया यह टेस्ट भी कामयाब रहा था। वायुसेना 40 से ज्यादा सुखोई फाइटर जेट में ब्रह्मोस मिस फिट करने की तैयारी कर रही है। इससे हर मौसम में जमीन या समुद्र में किसी भी टारगेट पर लक्षित लगाया जा सकता है। नेवी ने भी पिछले महीने जंगी जहाज INS चेन्नई से ब्रह्मोस मिस का सफल परीक्षण किया था।

गहरे समुद्र में इसके माध्यम से 400 किलोमीटर तक की दूरी पर मौजूद टारगेट को निशाना बनाया जा सकता है। भारत और रूस ने साथ मिलकर ब्रह्मोस मिसाइल को विकसित किया है। इसे पनडुब्बी, जहाज, फाइटर जेट या लैंड प्लेटफॉर्म से दागा जा सकता है। भारत अब इस प्रबंधित सुपरसोनिक द्वीप मिस के लिए एक्सपोर्ट मार्केट की तलाश में है। बड़े पैमाने पर इसके एक्सपोर्ट की संभावनाएं तलाशने के लिए DRDO ने खास तौर पर प्रोजेक्ट PJ 10 तैयार किया है।

Related Posts